www.blogvani.com चिट्ठाजगत

सोमवार, 3 जनवरी 2011

ये मेरी भावनाएं...


सुनों ये मृदु हैं,
सोम्‍य, नर्म और बुद्धिहीन हैं.
इन्‍हें देखो
ये मेरी भावनाएं हैं.
अरे-अरे छूओ नहीं,
कुछ कमजोर भी हैं ये.
तुम बस इन्‍हें देखो...
देखो कुछ देर यूं ही,
क्‍योंकि वे जरा संकोची भी हैं,
लचीली और बेहद कोमल,
महसूस करो इनकी
मृदुलता को, सोम्‍यता को
और,
अट्हास करो इनकी बु‍द्धिहीनता का...
अंत में इन्‍हें छूना,
इनसे खेलना,
इन्‍हें चूमना,
तोड़-मरोड़ कर इनके बदन को,
कर देना इनका बलात्‍कार,
वह भी एक नहीं,
कई कई बार,
ताकि ये डर, सहम कर जाएं बैठ
कोने में कहीं,
और दोबारा न कर पाएं
किसी पुरुष संग जुड़ने का दुस्‍साहस...
अनिता शर्मा

16 टिप्‍पणियां:

अनामिका की सदायें ...... ने कहा…

man ki bhaavnaaye man se likhi hain to sacchi to honi hi hain. aapne shabdon se sawar kar sunder roop diya inhe.

संजय भास्कर ने कहा…

bahut khoob Anita ji...........me to fan ho gaya apka

संजय भास्कर ने कहा…

सार्थक और बेहद खूबसूरत,प्रभावी,उम्दा रचना है..शुभकामनाएं।

nilesh mathur ने कहा…

बहुत लम्बे अंतराल के बाद बेहतरीन रचना!

उपेन्द्र ' उपेन ' ने कहा…

बहुत ही भावपूर्ण कविता ..... सुंदर प्रस्तुति.
नये दशक का नया भारत ( भाग- २ ) : गरीबी कैसे मिटे ?

राकेश कौशिक ने कहा…

सटीक, सार्थक तथा सारगर्भित

Prem Sharma ने कहा…

kaaya kahan hai pahale aap samaj to lijeeye Anita jeee.

वन्दना ने कहा…

गज़ब की भावाव्यक्ति।

वन्दना ने कहा…

आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
कल (21-4-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

http://charchamanch.blogspot.com/

Kunwar Kusumesh ने कहा…

भावों की कोमलता है,निश्चय में दृणता है,शब्दों में ग़ज़ब की सम्प्रेषणीयता है.

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

गहन संवेदनाएं

sushma 'आहुति' ने कहा…

bhut accha aur such jisme bhut gahraayi hoti hai likhti hai....

Pradeep Kumar ने कहा…

aapki bhavnaayen sahi hain aur in ke liye beshak aaj ke daur ka insaan hi zimmedaar hai

GirishMukul ने कहा…

सार्थक

himani ने कहा…

एक दोस्त ने बताया आपके ब्लॉग के बारे में
जब ब्लॉग नही खोल पाई तो उसने पढ़कर सुनाई आपकी कविता
इससे ज्यादा किसी कवि मन के लिए बढ़कर और क्या होगा
आपकी कविताओं की बेबाकी बेहतरीन है

himanshu puri ने कहा…

jo bhi likha hai aapne uski gahraaiyon me utarna muskil