www.blogvani.com चिट्ठाजगत

बुधवार, 11 फ़रवरी 2009

अदृश्‍य से तुम---

कागज पर
खाली रेखाओं से बिखरे तुम कभी कभी
मेरे लिखने का आधार बन जाते हो...

होठों पर
आड़ी तिरछी लकीरों से चिपके तुम
कभी सहसा... मुझे छूकर चले जाते हो...

मन के किसी कोने में
सदा सहमे से बैठे रहते हो
कि, जैसे मैने तुम्‍हें अभी अभी
डांटा हो,

अक्‍सर जब
धड़कन रुक जाती है तो अहसास होता है
कि तुम अब भी चल रहे हो
रक्‍त वाहिकाओं में कहीं... और तुम्‍हारा यूं रेंगना
मुझे सिहरन सी दे जाता है।

(अनिता शर्मा)