www.blogvani.com चिट्ठाजगत

शुक्रवार, 13 मार्च 2009

वो कुछ लावारिस चीजें


जरा उठो,
और अपने सिरहाने तक जाओ,
वहां जो तुम्हारे बिस्तर पर सिलवटें पड़ी हैं,
वो सिर्फ तुम्हारी नहीं हैं,
वहां से कुछ दूरी पर,
चूड़ी का एक टूटा टुकड़ा पड़ा है,
वो भी सिर्फ मेरा नहीं है,
अकसर लोग जुदा होने पर,
अपनी चीजें मांगते हैं,
पर मैं,
तुमसे कुछ नहीं मांगूंगी,
क्योंकि,
वो चीजें न सिर्फ मेरी हैं,
और न ही सिर्फ तुम्हारी,
वो सभी चीजें और पल हमारे हैं,
और जब हम कहीं खो गया,
तो जान लो,
कि वो अनमोल चीजें,
अब लावारिस हो चुकी हैं,
अब खड़े क्या हो,
उठो और उन्हें उठाकर...
घर से बाहर फेंक दो...

(अनिता शर्मा)

7 टिप्‍पणियां:

अनिल कान्त : ने कहा…

अनीता जी मैं क्या तारीफ करून आपकी इस रचना की ... इसका एक एक शब्द आपकी लेखनी की तारीफ कर रहा है ......भावनाएं भरी हुई हैं इसमें

इरशाद अली ने कहा…

गुलजार का गीत मेरा कुछ सामान याद आ गया।

भारत मल्‍होत्रा ने कहा…

बहुत खूब... बहुत अच्‍छा लिखा है आपने। सही बात है, साथ रहने पर जो यादें, जो चीजें हमारे साथ जुड़ती हैं उन्‍हें लौटाने का कोई अर्थ नहीं। वो चीजें आपके उस प्‍यारे से रिश्ते की खूबसूरत और अच्‍छी बातें याद दिलाती हैं। अच्‍छा लिखती हैं, लगातार लिखती रहें।

mehek ने कहा…

gehre bhav sunder rachana badhai

muskurahat ने कहा…

उठो और उन्हें उठाकर...
घर से बाहर फेंक दो...


क्या बात है! बहुत सुन्दर...

M VERMA ने कहा…

और जब हम कहीं खो गया,
तो जान लो,
कि वो अनमोल चीजें,
अब लावारिस हो चुकी हैं,
=====
कितनी सहजता से आपने इतने गहरे भाव की अभिव्यक्ति की है.

nilesh mathur ने कहा…

कमाल की पंक्तिया और भाव है!