www.blogvani.com चिट्ठाजगत

गुरुवार, 16 अक्तूबर 2008

तुम ...

जिसे कहने के लिए,
तुम्‍हारा इंतज़ार था,
वो बात कहीं छूट गई है।
जिसके सिरहाने सर रखकर
सोने को मैं,
बेकरारा थी,
वो रात कहीं टूट गई है।
अतृप्‍त से होठों पर
अक्‍सर जिह्वा फेर देती हूँ
फ़िर सहसा तुम्‍हें याद करने पर
जब कभी तुम हावी होते हो,
मेरी कल्‍पना पर,
सच, वो कुछ ज्‍यादा ही
उतावली हो उठती है,
तुम्‍हें जान पाने को,
तुम्‍हें छू पाने को
और करीब बुलाकर हैरान हो,
पूछने को कि 'अरे तुम यहां कैसे'?

33 टिप्‍पणियां:

Sachin Malhotra ने कहा…

bahut hi pyari kavita hai...

or sach mein hume acha lagega agar aap meri website (www.sunehrepal.com) par bhi join kare .... aapki joining ka intzaar rahega...

take care

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) ने कहा…

Sundar shabdon se bhaav ki abhi vyaktii,

badhaii sweekariye.

muskurahat ने कहा…

'अरे तुम यहां कैसे' ?

गया ही कहां था !

हा हा... बहुत बढ़िया. दिल खुश हो गया. keep it up...

krishh ने कहा…

आप हिन्दी में लिखते हैं. अच्छा लगता है. मेरी शुभकामनाऐं आपके साथ हैं

सुभाष नीरव ने कहा…

Aneeta ji
Agar aap isi tarah lekhan se lau lagayengi aur achha aur shreshth padhkar achha aur shreshth likhne ka prayas karti rahengi, to nishchit janiye ki aap ko yeh reetapan mahsoos nahi hoga. Blog ki duniya meiN aapka swagat hai.

Subhash Neerav
www.setusahitya.blogspot.com
www.vaatika.blogspot.com
www.gavaksh.blogspot.com
www.srijansahitya.blogspot.com
www.srijanyatra.blogspot.com

विनय ने कहा…

आपकी कविता बहुत सुन्दर भाव रखती है


---मेरा पृष्ठ
गुलाबी कोंपलें
----------------------
---मेरा पृष्ठ
चाँद, बादल और शाम

Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" ने कहा…

बेहतरीन कविता के लिए बधाई स्वीकार करें........
खूब लिखें,अच्छा लिखें......

Vijay Kumar Sappatti ने कहा…

anita ji
bahut sundar kavita likhi hai aapne ..
bahut hi bhaavpoorn aur end ek classic punch line hai ...

badhai

meri poems ko padhiye
: www.poemsofvijay.blogspot.com

vijay

सागर नाहर ने कहा…

वो मजा कहां वस्ल-ए-यार में, लुत्फ़ जो मिला इंतजार में,
काश ये इंतजार कभी खत्म ही ना हो..
बहुत खूब, बहुत बढ़िया कविता।

Navnit Nirav ने कहा…

aapke blog ke shirshak ko padh kar Niraj ki do pantiyan smaran ho aai hain..........
Isko bhi apnata chal usko bhi apnata chal, Rahi hain sab ek dagar ke sab par pyar lutata chal.

SANJEEV MISHRA ने कहा…

bahut khoob.
atyant sundar evam bhavpoorna kavita hai. manav hriday ki komalta se paripoorna.
saath hi aapne blog ke shiirshak ke neeche yah jo kuchh vaaqya likhe hain ,kitne arthpoorna hain.
aapke blog par first visit bahut achchha raha.
dhanywad.

Kishore Choudhary ने कहा…

kavita achchi lagi

Udan Tashtari ने कहा…

हिन्दी चिट्ठाजगत में आपका हार्दिक स्वागत है. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाऐं.

संगीता पुरी ने कहा…

बहुत सुंदर...आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है.....आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे .....हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

rahul.ranjan ने कहा…

bahut khub,
likhte rahen....
shubhkamnayen...
bhukjonhi.blogspot.com

Rahul kundra ने कहा…

बहुत खूब, हिंदी ब्लोग्स में आपका स्वागत है

बेनामी ने कहा…

आप अच्‍छा लिखती हैं, लगातार लिखती रहा कीजिए। ब्‍लॉग अगर समय से अपडेट होता रहे तो अच्‍छा रहेगा।

sanjaygrover ने कहा…

आज का दिन ऐतिहासिक है। मैं आपके ब्लाॅग पर आया हूँ।
(दरअसल...)
इधर से गुज़रा था सोचा सलाम करता चलूंऽऽऽऽऽ
संजय ग्रोवर, संवादघर

भारत मल्‍होत्रा ने कहा…

अच्‍छा लिख रही हैं। लगातार लिखती रहें। इतनी सुंदर कविता से भेंट कराने के लिए धन्‍यवाद

आनंदकृष्ण ने कहा…

आपका ब्लॉग देखा, बहुत अच्छा लगा. मेरी कामना है कि आपके शब्द नयी ऊर्जा, नए अर्थ और गहन संप्रेषण के वाहक बन कर जन-सरोकारों का सार्थक व समर्थ चित्रण करें ........
कभी समय निकाल कर मेरे ब्लॉग पर पधारने का कष्ट करें-
http:www.hindi-nikash.blogspot.com

शुभकामनाओं के साथ
आनंदकृष्ण, जबलपुर

Jyotsna Pandey ने कहा…

बहुत खूबसूरत एहसास........
अच्छी रचना ......

शुभ कामनाएं.................

ललितमोहन त्रिवेदी ने कहा…

रेशमी अहसासों की बहुत सुंदर अभिव्यक्ति !लेखन में निरंतरता बनाये रखें !

bhootnath ने कहा…

बहुत........बहुत..........बहुत........ही अच्छी.....सच....सच्ची........!!

Abhi ने कहा…

Aneeta Ji,
Blog jagat me aapka swagat hai..
yaha bhi aaye kabhi...
http://jabhi.blogspot.com

VisH ने कहा…

pahle aapka blog pada ...waah...fir aapki profile padi...waah wahh fir aapki kavita padi...mast yaar tussi to chha gaye...sheedhe or sateek vichar....aapko padkar achha laga or ha ab aapko mere blog par aana hai....or apni pratikriya deni hai....Intzaar mai??

Jai Ho Magalmay Ho

प्रवीण जाखड़ ने कहा…

बहुत अच्छा! सुंदर लेखन के साथ चिट्ठों की दुनिया में स्वागत है। चिट्ठाजगत से जुडऩे के बाद मैंने खुद को हमेशा खुद को जिज्ञासु पाया। चिट्ठा के उन दोस्तों से मिलने की तलब, जो अपने लेखन से रू-ब-रू होने का मौका दे रहे हैं एक तलब का एहसास हुआ। आप भी इस विशाल सागर शब्दों के खूब गोते लगाएं। मिलते रहेंगे। शुभकामनाएं।

प्रवीण जाखड़ ने कहा…

बहुत अच्छा! सुंदर लेखन के साथ चिट्ठों की दुनिया में स्वागत है। चिट्ठाजगत से जुडऩे के बाद मैंने खुद को हमेशा खुद को जिज्ञासु पाया। चिट्ठा के उन दोस्तों से मिलने की तलब, जो अपने लेखन से रू-ब-रू होने का मौका दे रहे हैं एक तलब का एहसास हुआ। आप भी इस विशाल सागर शब्दों के खूब गोते लगाएं। मिलते रहेंगे। शुभकामनाएं।

"VISHAL" ने कहा…

bhavnao ko vyakt karne ke liye shabdo ko bahut hi sahi prayog kiya hai,sachmuch bahut hi sundar rachana.

--------------------------"VISHAL"

dr. ashok priyaranjan ने कहा…

अनीता जी,
बड़ी संवेदनशीलता के साथ आपने कविता में भावों और विचारों को अभिव्यक्त किया है । अच्छा लिखा है आपने । अभिव्यक्ति बडी प्रखर है । आगे भी इसी रचनात्मक ऊर्जा से साक्षात्कार होता रहेगा । मैन अपने ब्लाग पर एक लेख लिखा है- आत्मविश्वास के सहारे जीतें जिंदगी की जंग । समय हो तो पढ़ें और प्रतिक्रिया भी दें-

httP://www.ashokvichar.blogspot.com

अनिल कान्त : ने कहा…

आपके भावो की अभिव्यक्त बहुत प्यारी होती है ....


अनिल कान्त
मेरी कलम - मेरी अभिव्यक्ति

परा वाणी - the ultimate voice ने कहा…

रसात्मक और सुंदर अभिव्यक्ति

chhavi ने कहा…

acha likh rahi hai tu. teri ye kavita meine ek saas mein padhi hai. gud yaar. keep it up.
chhavi

chhavi ने कहा…

acha likh rahi hai tu. teri ye kavita meine ek saas mein padhi hai. gud yaar. keep it up.
chhavi